Short most Suspense story in hindi फार्महाउस must read thrillers short

Most Suspense story in hindi – हेलो दोस्तो आपका फिर से स्वागत है मेरे ब्लॉग पर और मैं हूं आपका दोस्त और आज मैं आपके लिए लेकर आया हु Short most suspense and thriller story in hindi फार्महाउस must read thrillers तो चलिए शुरू करते है। दोस्तो आज की कहानी की प्रेरणा मुझे एक मूवी से मिली है लेकिन उसका नाम याद नही आ रहा ये भी एक काल्पनिक कहानी है ।

Short most suspense thriller story in hindi फार्महाउस

आज की कहानी की शुरुआत होती है सूरज और उसकी पत्नी अपने फार्म हाउस में बैठे होते है सूरज की पत्नी का नाम आशा होता है।आशा को प्यास लगती है और वो पानी पीने के लिए जाती है।

तभी घर की लाइट चली जाती है और तभी हम आशा की चीख सुनते है।

सूरज उस तरफ जाता है जहां पर से आवाज आई थी।

तभी उसके सिर पर भी बहुत जोर से कोई मारता है और वो बेहोश हो जाता है।

सूरज 1 हफ्ते तक कोमा में रहता है और आशा की मृत्यु हो गयी होती है।

जब सूरज को होश आता है तो उसके सामने आशा की बहन होती है।

जिसका नाम डोली होता है वो सूरज को बताती है कि आशा अब इस दुनिया मे नही रही।

किसी ने उसका खून कर दिया है वो एक सीरियल किलर था जिसने और भी बहुत से कत्ल किये है और उसको आजीवन कारावास की सजा हुई है।

अब सूरज बहुत रोने लगता है क्योंकि वो आशा से बहुत प्यार करता है।

कुछ दिनों बाद सूरज को हॉस्पिटल से छुट्टी मिल जाती है और वो अपने घर चला जाता है।

वो आशा के घर जाता है वहाँ पर उसे दादाजी मेजर प्रताप जी थे और डोली थी।

सूरज को मेजर प्रताप जी बोलते है कि जो हुआ उस पे तो किसी का जोर नही था पर अब तुम अपने काम और आगे की जिंदगी के बारे में सोचो।

सूरज बोलता है कि आशा ही मेरी जिंदगी थी अब वो नही है तो मैं भी जीकर क्या करूँगा।

ऐसा बोलकर वो रोने लग जाता है।

मेरा संघर्ष

fantasy story in hindi

आप पढ़ रहे है ……

Most suspense story in hindi

प्रताप जी उसको सांत्वना देते हुए उसकी पीठ पर हाथ रखते है।

और उसको शांत करते है डोली भी उसको सांत्वना देती है।

इसके बाद वो अपने घर चला जाता है।

कुछ दिनों बाद पुलिस को सूरज के फार्महाउस के पास की खाली जमीन में एक आदमी की बॉडी मिलती है।

पुलिस इसके बाद सूरज के घर जाती है।

वो उसको बताती है कि हमको आपके फार्महाउस के पास की खाली जमीन के अंदर एक आदमी की बॉडी मिली है।

वो उसको बताते है कि उस आदमी के पास हमको एक मोबाइल मिला है जिसमे हमे एक sd card मिला है।

उस कार्ड में एक वीडियो मिली जिसमे आपकी पत्नी पर कोई पिट रहा है ।

उस आदमी की तो तस्वीर नही दिख रही क्योकि उसने अपने मुंह पर कपड़ा बांध रखा था।

अब तुम बताओ कि वो कौन है? सूरज कहता है कि मैं नही जानता कि ये कौन है?

और मुझको भी आज ही पता चला है इस बारे मे की आशा के साथ किसी ने मारपीट की थी।

मेरे होते हुए तो आशा के साथ ये सब नही हुआ।शायद मैं जब यहां नही था तब कुछ हुआ हो सकता है।

दरअसल मैं पिछले 6 महीनों से अपने किसी काम के सिलसिले में दूसरे शहर में था।

शायद तब उसके साथ ये हुआ हो लेकिन मुझे हैरानी इस बात की है कि आशा ने मुझे इस बारे में नही बताया कि उसके साथ कोई मारपीट कर रहा था।

फिर पुलिस वहां से चली जाती है।

लेकिन जॉन नाम के एक इंस्पेक्टर को सूरज पर ही शक होता है कि उसने ही अपनी पत्नी को मारा है।

इसलिए वो पुलिस के दो अधिकारियों को उसके ऊपर नजर रखने के लिए रख देता है।
अब सूरज भी इस बात की तहकीकात करने लग जाता है कि किसने आशा के साथ मारपीट की है।
वो डोली के पास जाता है और उसको पूछता है कि क्या तुमको ये बात पता है कि किसी ने आशा के साथ मारपीट की थी।
तब डोली ने कहा कि मुझे आशा ने इस बारे में नही बताया कि उसके साथ किसी ने मारपीट की थी।
फिर सूरज आशा के ये बात दादाजी से पूछता है तो उसके दादाजी भी ऐसी किसी बात की जानकारी के लिए मना कर देते है।
अब वो अपने घर मे तलाश करता है कि शायद कोई सबूत मिल जाये।
उसको एक वकील का no. मिलता है वो उस वकील के पास जाता है तो उसको पता चलता है कि किसी ने आशा पर मुकदमा कर रखा था।
कैसा मुकदमा सूरज ने पूछा।

उस वकील ने कहा कि जान से मारने की कोशिश का मुकदमा।
क्या आशा ने किसी को जान से मारने की कोशिश की थी।
उस वकील ने कहा कि लेकिन आशा जी ने कहा था कि उसको कोई फसा रहा है।
कुछ दिनों बाद जब वो मेरे पास आई तो वो बहुत चोटिल थी उनको बहुत चोट लगी हुई थी कि जैसे किसी ने उनको बहुत बुरी तरह से पीटा हो।
उन्होंने कहा कि उनके पास अब सबूत है कि मैंने उसको मारने की कोशिश नही की।
फिर कुछ दिनों बाद आशा ने मेरे पास आना बंद कर दिया और उसके ऊपर से लगा मुकदमा भी हटा दिया गया।
अब वो कहाँ है उस वकील ने पूछा सूरज की आंखे नम हो गयी और उसने बताया कि अब वो इस दुनिया मे नही है।
ये सुनकर उस वकील ने भी सूरज को सांत्वना दी।
फिर सूरज वहां से चला गया और सारी बात डोली और उसके दादा जी को बताई। जाती हैं
डोली की आंखों से आंसुओ की गंगा जमुना बहने लगी।
उसने कहा कि हमको ये बात पहले से ही पता था और वो वहां से चली जाती है।
अब प्रताप जी सूरज को बताते है कि महेश नाम का एक अमीरजादा आशा के पीछे पड़ा था।
वो उसको बहुत तंग करता था लेकिन आशा उसको इग्नोर करती रही।
लेकिन एक दिन वो आशा को उठाकर ले गया और उसके साथ बदतमीजी करने लगा।
आशा ने उसको बहुत रोका लेकिन वो नही माना और मजबूरी में आशा के हाथों से एक कांच की बोतल लग जाती है।
उसके सिर से खून बहने लगता है।
आशा वहां से भाग आती है दो दिनों बाद आशा को पुलिस पकड़ने आ जाती है।
हम कुछ भी नही कर पाते हमने तब आपको फोन लगाने की भी कोशिश की थी लेकिन आपका फोन ही नही लगा।
तब सूरज बोलता है कि मेरा मोबाइल एक नाले में गिर गया था।
इस वजह से मेरे पास कई दिनों तक फोन नही था।
आशा ने तभी अपने एक दोस्त को फोन किया जो पेशे से एक वकील था।
उसने आशा को बेल पर छुड़वा लिया ।
लेकिन उस वकील ने बताया कि महेश का पक्ष बहुत मजबूत है।
तुमको सजा होने के बहुत चांस है।
अगर हमारे पास ये सबूत होता कि वो गलत है तो शायद हमारा पक्ष मजबूत हो जाये।
लेकिन आशा के पास कोई सबूत नही था ।
महेश ने फिर से उसको तंग करने शुरू कर दिया था।
एक दिन आशा ने उसको कोम्प्रोमाईज़ करने के लिए कहा तो वो मान गया आशा ने उसको तुम्हारे फार्महाउस पर बुलाया।
आशा उसको अपने कमरे में ले गयी और कहा कि कोम्प्रोमाईज़ करने के लिए तुमको क्या चाहिए।
उसने कहा कि मैं सिर्फ तुमको ही चाहता हूं।
आशा ने कहा कि ये तुम क्या कह रहे हो मैं एक शादी शुदा लड़की हूँ और अपने पति से बहुत प्यार करती हूं।
महेश ने कहा कि मैं सिर्फ तुम्हे ही पाना चाहता हूँ।
महेश ने अपनी जेब से एक मास्क निकाला और उसको पहन लिया।
उसके बाद आशा ये देख कर डर गई कि उसने ये मास्क क्यों पहना है।
उसने महेश को धक्का दिया और वहां से भागने लगी।
लेकिन महेश ने उसको पकड़ लिया और अपने मोबाइल फोन को रिकॉर्डिंग मोड़ में रख दिया और आशा को पीटने लगा ।
उसने ये सब कुछ रिकॉर्ड कर लिया।
यही उसका शौक था वो लड़कियों को पीटकर उसका वीडियो बनाता था हर लड़की के लिए एक अलग sd card रखता था।

दोस्तो आपको ये most suspense story in hindi फार्महाउस कैसा लगा कॉमेंट करे अगर अच्छा लगा तो शेयर भी करे

आप पढ़ रहे ……..

Most suspense story in hindi


ये उसने पीटते वक्त आशा को बताया था।
उसने कहा कि ये तो अभी शुरुआत है।और वो मोबाइल बन्द करके वहां से जाने लगा।
कुछ देर बाद मैं भी वहां पर आ चुका था।
मैने देखा कि ये आदमी जोर जोर से हंस रहा है और आशा जमीन पर पड़ी है।
मुझे बहुत गुस्सा आया और मैने मेरी पिस्तौल जो कि पास ही में टँगी हुई थी।
उससे महेश को गोली मार दी जिसके बाद उसकी वहीं पर मृत्यु हो गयी।
मैंने उसकी लाश को फार्महाउस के पास वाली खाली जमीन में दफना दिया।
जो तुम पर हमला हुआ था वो महेश के पिता ने करवाया था।
लेकिन उस हमले के बारे में मुझको पहले ही किसी के द्वारा पता चल गया था।
उसने तुम दोनों को मारने के लिए जिसको पैसे दिए थे।
वो मेरे जानकारी में ही थे।
मैने उनको कहा किवो तुमको धीरे से मारे और एक बेहोशी का इंजेक्शन दे दे।
आशा को भी मैने इस हमले के बारे में पहले ही बता दिया था।
उसने भी चिल्लाने का नाटक किया मैने उसके जैसी दिखने वाली एक बॉडी का भी इंतेजाम किया और उसको वहां डाल दिया और आशा के रूप में पुलिस के सामने उसकी पहचान की।
डॉक्टर को पैसे देकर रखा था ताकि वो तुमको कुछ दिनों के लिए बेहोश ही रखे।
इसके बाद मैंने आशा को दूसरे देश भेज दिया।
मैंने आशा से वादा किया था कि मैं तुमको सब कुछ बता कर वहां उसके पास भेज दूंगा।
सूरज ने कहा कि इतना सब करने की क्या जरूरत थी।
आप पुलिस के पास जा सकते थे।
प्रताप जी ने कहा कि पुलिस उसका कुछ नही बिगाड़ सकती।
यही एक रास्ता था जिससे उसको ये विश्वास हो जाये कि आशा मर गयी है और वो तुम दोनों की जिंदगी से निकल जाए।
प्रताप जी सूरज को उस जगह का टिकट देते है और उसका एड्रस देते हुए कहते है कि मुझे पता है कि तुम आशा से प्यार करते हो लेकिन फिर भी एक पिता होने के नाते मैं तुमसे कहता हूं कि उसका ध्यान रखना।
इसमें उसकी कोई गलती नही थी।
मैंने ही उसको तुमको कुछ भी न बताने का वादा लिया था और ये कहा था कि वक्त आने पर मैं सब कुछ तुमको बता दूंगा।
फिर सूरज वहां से चला जाता है।
अगले दिन वो वहां पहुंचता है जहां पर आशा होती है।
सूरज को देखते ही उसको गले लगा लेती है और हमारी कहानी का यहीं पर अंत हो जाता है।

सच्चा प्यार thriller इन hindi

most short Suspense story in hindi इस कहानी में ऋषि नाम का एक लड़का था ।
उसका दिमाग बहुत ही तेज था लेकिन वो एकदम सीधा साधा था।
वो एक हैकर भी था।
वो अपनी ही दुनिया मे रहता था।
उसके पड़ोस में जी एक लड़की रहती थी वो उस लड़की से एकतरफा प्यार करता था।
उसका नाम सोनी था।
सोनी उसके साथ एक पड़ोसी की तरह ही बिहेव करती थी।
वो उसको ज्यादा पसंद नही करती थी।
क्योंकि बो एक खुले मिजाज यानी नए जमाने की लड़की थी और वो पुराने ख्यालातों का लड़का था।
उसके माता पिता की मृत्यु हो चुकी थी।
सोनी का एक अंकल था उसका नाम संजय था और वो सोनी को बहुत परेशान करता था।
तो अब कहानी की शुरुआत में सोनी के घर मे एक लाश पड़ी है।
और वहाँ पर ही एक लोहे की रॉड भी हैं पड़ी थी जिसके ऊपर खून लगा हुआ था।
वहीं पर ऋषि भी था उसने पूछा कि ये सब कैसे हुआ और ये लाश किसकी है तो सोनी ऋषि को बताती है कि ये लाश संजय अंकल की है।
वो सोनी के पिता का दोस्त था और उसके माता पिता की मौत के बाद वो सोनी को अपने साथ शादी के लिए फ़ोर्स कर रहा था।
आज जब वो शराब के नशे में उसके घर आया और मुझे कहा कि तुम मुझसे शादी करोगी या नही।
तब मैंने उसको मना कर दिया और घर से जाने के लिये कहा।
लेकिन संजय अंकल फिर मेरे के साथ जबरदस्ती करने लगा ।
ये देखकर मुझको भी बहुत गुस्सा आया और मैने पास ही पड़े एक लोहे के पाइप से संजय के सर पर वार किया।
उसके बाद इनकी मौत हो गयी और फिर तुमने दरवाजा खटखटाया।
मैंने तुमको जाने के लिए कहा लेकिन तुम जबर्दस्ती अंदर आ गए।
ऋषि ने कहा कि मैंने तुम्हारे घर से चीखने चिल्लाने की आवाज सुनी थी।
इसलिये मैं तुम्हारे घर पर आया था लेकिन ये सब देखकर मेरा दिमाग हिल गया है।
सोनी ऋषि को कहती है कि मैं पुलिस को फोन करके सब कुछ बता देती हूं।
लेकिन ऋषि कहता है इससे तो तुमको जेल हो सकती है।
फिर तुम्हारे भाई का क्या होगा।
ऋषि कहता है मैं कोई रास्ता निकालता हूँ उसके बाद ऋषि संजय की लाश को एक कपड़े में लपेटता है और उसको अपनी गाड़ी में डालकर पास के एक तालाब में डालकर आ जाता है।
तीन दिन बाद पुलिस ऋषि के घर पर आती है और उसको पूछताछ के लिए अपने साथ लेजाने लगती है।
ये सब कुछ सोनी देख रही होती है पर वो कुछ भी नही कहती बस चुपचाप सब देखती रहती है।
शाम को पुलिस ऋषि को वापिस छोड़कर चली जाती है।
फिर एक दिन बाद पुलिस विभाग का एक ऑफिसर जिसका नाम दिपक होता है वो सोनी के घर पर आता है।
दीपक सोनी पूछता है कि क्या तुम इनको को जानती हो और दीपक सोनी को ये बोलते हुए संजय की तस्वीर दिखाता है।

आप पढ़ रहे है …….

Most suspense story in hindi
सोनी कहती है कि ये तो मेरे अंकल है दीपक कहता है कि 8 मार्च के दिन रात के 9 से 11 बजे के करीब इनकी मृत्यु हो गयी हमको इनकी लाश पास के एक तालाब में मिली और मुझे शक है कि इनकी हत्या हुई हैं।
तो क्या आप हमारी कुछ मदद कर सकती है।
तब सोनी ये सब सुनकर रोने लगी और कहा कि किसने मारा है मेरे अंकल को।
तब दीपक ने कहा कि ये तो अभी हमे पता नही चला इसलिये हम अभी इनके सभी करीबी लोगों से पूछताछ कर रहे है ताकि हमको कोई सुराग मिल सके कि इनकी हत्या कौन कर सकता है।
सोनी कहती है कि आप जल्द से जल्द पता लगाइये किसने मेरे अंकल का खून किया है।
तब दीपक कहता है कि आप 8 मार्च के रात 9 से 11 बजे कहाँ पर थी।
तब सोनी कहती है कि क्या आप मुझ पर ही शक कर रहे है।
मैं भला इनको क्यों मारूंगी मेरी इनसे क्या दुश्मनी है जो मैं इनका कत्ल करूँगी और आपको बता दूं कि मैं 8 मार्च के रात 8.30 बजे से 12 बजे तक ऋषि जी के साथ मूवी देखने गयी थी।
इसका क्या सबूत है कि आप सिनेमा देखने गयी थी दीपक ने कहा।
अगर आपको यकीन ना हो तो आप ऋषि जी को पूछ सकते है।
वो हर तरह से उलझाकर सोनी से पूछता है लेकिन सोनी का एक ही जवाब होता है कि मैंने कुछ नही किया मैं उस वक्त घर पर नही थी ऋषि जी के साथ सिनेमा देखने गयी थी।
फिर दीपक वहां से चला जाता है।
उसके बाद सोनी ऋषि के घर जाती है और कहती है किअब क्या करना है।
ऋषि बोलता है अब कुछ करने की जरूरत नही हैअब पुलिस तुम्हारे पास नही आएगी।
सोनी कहती है वो कैसे ऋषि बोलता है कि मैंने उनको सिनेमा घर के सीसीटीवी देखने के लिए कहा है।
जिसमे हम दोनों की मौजूदगी कैद है।
सोनी बोली वो कैसे हम तो सिनेमाघर गए ही नही तुमने तो बस उस पुलिस वाले को कहने के लिए ही कहा था की हम मूवी देखने के लिए गए थे।
तब ऋषि कहता है कि मैंने उस सिनेमा के सीसीटीवी को हैक करके हम दोनों की वो वीडियो ऐड कर दी जो हमने बनाई थी।
फिर जब वो मुझे लेकर गए तब मैंने उनको यकीन दिला दिया कि हम दोनों मूवी देखने गए थे।
फिर भी ये कन्फर्म करने के लिए वो तुम्हारे पास आये थे।
और तुमने भी उनको यकीन दिल दिया कि हम सिनेमाघर में ही थे।
इसके बाद सोनी ने ऋषि से पूछा तुम ये सब क्यों कर रहे हो।
कोई भी अपने पड़ोसी के लिए इतना सब नही कर सकता।
तब ऋषि कहता है कि अगर सच बताऊं तो मैं ये अपने लिए ही कर रहा हूँ क्योंकि मैं तुमसे प्यार करता हूं लेकिन ये बात कहने की मेरी कभी हिम्मत नही हुई लेकिन जब आपने पूछा तो मैं आपको ये बता रहा हूँ।
सोनी ये सुनते ही उसके गले लग जाती है लेकिन ऋषि उसको हटा देता है।
वो कहती है कि मैं भी तुमसे प्यार करने लगी हूँ।
लेकिन ऋषि कहता है कि तुम मेरे किये गए अहसान का बदला चुकाना चाहती हो ये प्यार नही है।
सोनी कहती है कि मैं तुमको कैसे समझाऊं ये सच है कि मैं तुमसे पहले नफरत करती थी।तुम मुझे बिल्कुल पसंद नहीं थे।
लेकिन जब मैंने तुम्हारे साथ ये तीन दिन बिताये तब मुझे तुम्हारी अच्छाई और सच्चाई के बारे में जानने का मौका मिला।
अब मैं तुमसे सच मे प्यार करने लगी हूँ उसके बाद दोनों एक दूसरे के गले लगते है और कुछ समय बाद दोनों शादी कर लेते है।

Read also….

Ghost stories in hindi for child – bhoot wali kahani hindi me

दोस्तो आपको ये most suspense and thriller story in hindi कैसी लगी कॉमेंट करे अगर अच्छी लगे तो शेयर भी करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *