Short fairy tales stories in hindi new| सागर-प्रीत की love story

हेलो दोस्तो आपका स्वागत है dhaliyabhai.com पर और आज मैं आपके लिए लेकर आया हु short fairy tales stories in hindi 2021 new सागर-प्रीत की lovestory

Short fairy tales stories in hindi 2021 new सागर-प्रीत की lovestory

एक बार की बात है सागर और प्रीत दोनो एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे।
लेकिन उनके घर वाले एक दूसरे के कट्टर दुश्मन थे इसलिए उन दोनों ने अपने घर वालो को बताया नही की वो एक दूसरे से प्यार करते है।
पहले सागर के पिता मानव और प्रीत के पिता सुंदर दोनो एक दूसरे के बहुत गहरे मित्र थे ।
जब वे दोनों छोटे थे तभी से उनकी मित्रता हो गयी थी।
जब वो बड़े हुए तब तक उनकी दोस्ती बहुत गहरी हो गयी थी।
वो दोनों साथ मे ही रहते थे साथ मे खाते साथ मे घूमते थे।
लेकिन एक बार एक लड़की की वजह से दोनो की दोस्ती में दरार पड़ जाती है और दोनों एक दूसरे से नफरत करने लग जाते है।
कुछ समय बाद दोनों की शादी हो जाती है और मानव के घर एक पुत्र और सुंदर के घर एक लड़की का जन्म होता है।

आप पढ़ रहे है… Short fairy tales stories in hindi 2021 new सागर-प्रीत की lovestory

ये भी पढ़ें………

Short most Suspense story in hindi फार्महाउस must read thrillers short

माता पिता की तलाश Short new Story in Hindi 2021 read online

Story for kids fairy tales hindi new short वैष्णवी और शैतान

Story of princess in hindi | hindi fairy tales stories चूहा और राजकुमारी

धीरे धीरे दोनो बच्चे बड़े होते है और दोनों एक ही स्कूल और एक ही क्लास में होते है।
बाद में एक ही क्लास में होने की वजह से दोनों में दोस्ती हो जाती है।
लेकिन एक बार सागर को पता चल जाता है कि उन दोनों के पिता एक दूसरे के जानी दुश्मन है क्योकि एक बर्फ वो उन दोनों को लड़ते हुए देख लेता है और उनकी बातों से सागर को पता चल जाता है।
इसके बाद वो प्रीत को भी बता देता है की उनके पिता के बीच दुश्मनी है इसलिए वो अपने परिवार में किसी को नही बताते की वो एक दूसरे के दोस्त है।
दिन ऐसे ही बीतते रहते है और वो दोनों अब जवानी की दहलीज पर अपने पैर रखते है।
अब उनकी दोस्ती प्यार का रूप ले लेती है वो दोनों अब भी छुप छुप कर मिला करते थे।
एक बार सागर ने प्रीत से कहा कि हमे कभी तो अपने माता पिता को बताना होगा कि हम एक दूसरे से प्यार करते है और शादी करना चाहते है।
तो आज ही क्यों न बता दे तो प्रीत कहती है कि वो हमारे रिश्ते के लिए कभी भी तैयार नही होंगे।ये भी के
तब सागर कहता है कि कब तक हम छुप कर मिलते रहेंगे अगर हम अपने माता पिता को बता दे तो शायद हमारे प्यार कि वजह से वो हमारे रिश्ते के लिए तैयार हो जाये।
उसके बाद सागर प्रीत को मना लेता है और दोनों अपने अपने माता पिता को अपने प्यार के बारे में बताते है।
तब सागर तो अपने पिता को मना लेता है लेकिन प्रीत के पिता नही मानते और प्रीत का बाहर निकलना ही बंद कर देते है।
उसके बाद मानव और सागर दोनो सुंदर के घर आते है और सुंदर को शादी के लिए मनाते है लेकिन सुंदर उनका अपमान करके उनको घर से निकाल देता है।
अगले दिन सागर फिर से उनके घर जाता है लेकिन सुंदर उसको फिर से निकाल देता है।
इस तरह से कई दिन चलता है एक बार जब सुंदर घर पर नही होता तो सागर प्रीत के पास आता है और दोनों वहां से भागने का प्लान बनाते है।
सागर उसको कहता है कि जब आधी रात हो जाये तब तुम घर से निकलना और जंगल के पास के बरगद के पेड़ के पास आ जाना।
प्रीत ऐसा ही करती है वो रात को बरगद के पेड़ के पास आ जाती है।वो कई देर से सागर का इंतजार करती होती है कि तभी वहां पर पास के जंगल से लक्कड़बग्घों का एक झुंड आ जाता है।
उसको देखकर प्रीत वहां से भाग जाती है लेकिन झाड़ियों में फंस कर उसकी ओढ़नी वहीँ रह जाती है और वो एक गुफा में छुप जाती है। वो लक्कड़बग्घे उस ओढ़नी को फाड़ देते है और वापिस जंगल की और चले जाते है।
सागर वहां पर आता है और देखता है कि प्रीत अभी तक नही आई ।
सागर प्रीत को इधर उधर ढूढता है लेकिन वो नही मिलती कुछ दूरी पर ही उसको प्रीत कि ओढनी दिखती है ।
वो सोचता है कि किसी जंगली जानवर ने प्रीत को मार दिया है।
वो कहता है कि जब प्रीत इस संसार मे नही है तो मैं भी अब जिकर क्या करूँगा और वो भी मरने के लिए पहाड़ी पर चला जाता है।
अब प्रीत भी गुफा से बाहर आती है वो देखती है कि सागर ऊपर पहाड़ियों पर जा रहा है वो उसको आवाज लगाती है ।
लेकिन उसकी आवाज सागर तक नही पहुंचती वो वहाँ से भागती हुई जाती है ।
जब सागर पहाड़ से छलांग लगाने वाला होता है तभी प्रीत उसको फिर से आवाज लगाती है।
अबकी बार प्रीत की आवाज सागर तक पहुंच जाती है।
वो नीचे आता है और प्रीत को अपने गले लगाता है।
कुछ देर बाद उन दोनों के माता पिता भी वहां आ जाते है सुंदर वहीँ पर पड़ी अपनी बेटी की ओढ़नी देखता है और वो भी यही सोचता है कि उसको कोई जंगली जानवर खा गया होगा इसके बाद वो जोर जोर से रोने लगता है।
वो कहता है कि आज मेरी जिद के कारण मेरी बेटी जिंदा नही है अगर मैं उसकी बात मान लेता तो आज मेरी बेटी जिंदा होती।
तभी सागर और प्रीत भी वहां आ जाते है प्रीत को देखकर सुंदर उसको गले से लगा लेता है और बाद में उन दोनों की शादी करवा देता है।
तो दोस्तो आपको ये कहानी कैसी लगी कॉमेंट करें अगर आपको ये कहानी अच्छी लगे तो शेयर भी करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *